संस्कृत फिल्म "प्रतिकृति" ने की चोरी हो रहे संस्कृत साहित्य के संरक्षण की पैरवी


बैस्ट रिपोर्टर न्यूज,जयपुर (रिपोर्ट : आशा पटेल) । राजस्थान संस्कृत अकादमी तथा कला एवं संस्कृति विभाग की ओर से आयोजित किए जा रहे संस्कृत भाषा की फिल्मों के दो दिवसीय उत्सव के दूसरे दिन जवाहर कला केन्द्र में दो संस्कृत फिल्मों प्रतिकृति और पुण्य कोटि की स्क्रीनिंक की गई। रिफ फिल्म क्लब एवं जवाहर कला केंद्र के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित हो रहे इस उत्सव की संयोजक अंशु हर्ष ने बताया कि इस दिन फिल्मों के अलावा ‘संस्कृत सिनेमा प्राचीन साहित्य से आधुनिक विज्ञान तक’ पर टॉक शो भी आयोजित किया गया। शो में जस्टिस जी.के. व्यास, कला एवं संस्कृति विभाग के संयुक्त सचिव पंकज ओझा और संस्कृत फिल्मों के निर्माता निर्देशकों ने अपने विचार व्यक्त किए।  

अकादमी के निदेशक संजय झाला ने बताया कि समारोह के दूसरे दिन रविवार को निधीश गोपी निर्देशित 120 मिनट की ‘प्रतिकृति’ की स्क्रीनिंग की गई। फिल्म प्रतिकृति में बताया गया कि विभिन्न संग्रहालयों में रखे संस्कृत साहित्य के अनेक दुर्लभ ग्रन्थों और पांडुलिपियों की लोग चोरी कर रहे हैं और इसमें परिवर्तन कर इसे अपने नाम से बाजार में बेचकर मुनाफा कमा रहे हैं। इस फिल्म में इन्हीं दुर्लभ पांडुलिलियों के संरक्षण की पुरजोर पैरवी की गई है। इस दिन समारोह की चौथी और अन्तिम फिल्म रविशंकर वैंकटेश्वरन निर्देशित ‘पुण्यकोटि’ की स्क्रीनिंग की गई। पुण्यकोटि संस्कृत भाषा की पहली एनीमेशन फिल्म है। इसका निर्माण बैंगलुरु के रवि शंकर वी ने किया है। उन्होंने 20 साल पहले पुण्यकोटि नाम से एक किताब लिखी थी। लोककथा पर आधारित कहानी में गाय और शेर के जरिए सच के महत्व की कहानी कही गई थी। रवि कुमार मानते हैं कि बच्चे एनीमेशन देखते समय किरदारों के क्रियाकलाप में इतने मग्न हो जाते हैं कि उन्हें भाषा का ख्याल नहीं रहता।

रिफ फिल्म क्लब एवं जवाहर कला केंद्र के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित हो रहे इस उत्सव के संयोजक अंशु एवं सोमेंद्र हर्ष ने बताया कि इस दिन फिल्मों के अलावा ‘संस्कृत सिनेमा प्राचीन साहित्य से आधुनिक विज्ञान तक’ पर टॉक शो भी आयोजित किया गया।

Popular posts
राज्य स्तरीय ताइक्वांडो प्रतियोगिता में खिलाड़ियों ने ताइक्वांडो मे राज्य स्तर पर जीते 16 पदक
चित्र
समग्र सेवा संघ की गोष्ठी में जे.पी. व लोहिया को दी शब्दांजलि, समाजवाद व लोकतंत्र की प्रासंगिकता पर हुआ मंथन
चित्र
महामारी का आना , हकीकत है या फसाना ? वैश्विक षड़यंत्र के विचारणीय संकेत
चित्र
कोटा सेंट्रल जेल में जरूरतमंद बंदियों को बांटे गर्म कपड़े
चित्र
पत्रकार दम्पति के साथ टोलकर्मियों द्वारा मारपीट मामले में मजिस्ट्रेट के समक्ष बयान, पुलिस करेगी चालान पेश
चित्र