लेखकों ने जेएलएफ के लिए क्लार्क्स आमेर को बताया बिल्कुल उपयुक्त स्थान

बैस्ट रिपोर्टर न्यूज,जयपुर (रिपोर्ट : आशा पटेल) । जयपुर लिटरेचर फेस्टिवल (जेएलएफ) की वापसी पर साहित्यप्रेमियों में खुशी की लहर है। इसके नए आयोजन स्थल— होटल क्लार्क्स आमेर ने फेस्टिवल को वह अवसर प्रदान किया है, जिसका यह  हकदार है। प्रसिद्ध लेखिका व पत्रकार, प्रज्ञा तिवाड़ी ने कहा कि फेस्टिवल का 15 वां संस्करण अब तक काफी उत्साहजनक रहा है, जेएलएफ पहली बार वसंत ऋतु में हो रहा है और होटल क्लार्क्स आमेर ने अपने भव्य व खूबसूरत परिदृश्य और खिले हुए पेड़ों के साथ इसके लिए जीवंत व्यवस्था प्रदान की है।

क्लार्क्स परिसर में फैली हरियाली के बीच इस फेस्टिवल के विशाल मैदान एक बेहतरीन आकर्षण है।

व्यक्तिगत सत्रों के मैदान इस बार ज्यादा बड़े हैं और सदियों पुराने पेड़ों और एक एकड़ की हरियाली के बीच पूरे फेस्टिवल का अनुभव मिल रहा है। खूबसूरत बनावट के साथ, जो क्लार्क्स के लिए स्वाभाविक है, होटल ने स्वयं को जेएलएफ के लिए रोचक व उत्सवपूर्ण वंडरलैंड में बदल दिया है। फेस्टिवल के लिए स्थान की योजना इसकी कार्य संबंधी सभी आवश्यकताओं के साथ-साथ कलात्मक आवश्यकताओं को भी ध्यान में रखते हुए बनाई गई है। फेस्टिवल की वजह से यहां विजिटर्स की निरंतर आवाजाही बनी हुई है और इसके बैठने की व्यवस्था कोविड प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए की गई है।

क्लार्क्स में आने वाले लेखकों, मेहमानों व फ्रेंड्स ऑफ फेस्टिवल के सुकून व सुविधा के लिए कई विशाल लाउंज बनाए गए हैं। बाजार और रेस्टोरेंट कियोस्क हेतु एक अलग व विशेष क्षेत्र रखा गया है, ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि साहित्यिक कार्यक्रम सुचारू रूप से चलते रहें और इनके समानांतर आगंतुक आसानी से अपनी इच्छा के अनुसार अनुभव भी प्राप्त कर सकें। आगंतुकों के लिए बाजार व रेस्टोरेंट क्षेत्रों में प्रवेश भी मुफ्त रखा गया है।


लेखक सोहेला अब्दुलाली कहते हैं 'मुझे क्लार्क्स आमेर में ठहरना पसंद है और यहां जेएलएफ में भाग लेना बहुत ही शानदार लग रहा है। ऑथर लाउंज से बाहर देखना और सभी गतिविधियों के बीच में मौजूद होना अनूठा अनुभव है'।

'यह मेरा सातवां जेएलएफ है। मैं एक साहित्यप्रेमी हूं और हर वर्ष मैं सिर्फ इस फेस्टिवल में शामिल होने के लिए मुंबई से जयपुर आता हूं। क्लार्क्स का मेरा अनुभव शानदार रहा है। यहां के स्थान शांत व विशाल हैं, यहां आने वाले जनसमूह को अच्छी तरह से प्रबंधित किया जाता है और कोविड प्रोटोकॉल का ईमानदारी से पालन किया जाता है, यह राहत की बात है।' - रजिया फैजुल्लाह 

Popular posts
वस्‍त्र निर्यात की छूट योजना में असंतुलन से परिधान और वस्‍त्र उद्योग की प्रतिस्‍पर्धा हो रही प्रभावित
चित्र
‘आयुर्वेद जिज्ञासा’ साप्ताहिक बेबीनार आयोजित
चित्र
केडीके सॉफ्टवेयर के तत्वाधान में ड्राइव बिजनेस थ्रू टेक्नोलॉजी सेमिनार का आयोजन
चित्र
ज़िन्दगी इसी का नाम है' जवाहर कला केंद्र में पिपलांत्री पर आधारित डाक्यूमेंट्री का प्रदर्शन
चित्र
लेनदेन क्लब ने पेश किया राजस्थान का पहला फिक्स्ड मैच्योरिटी Peer-to-Peer प्लान (FMPP)
चित्र